कमी तेरे साथ की है या तेरी?

रिश्ता कहने को तेरा मेरा है
दुनिया की नज़र में ये अंधेरा है। 

बोल इसलिय नही पाया लायक नही था
बरना समझा तुझे अपना, गैर नही था।

वो दिन भी मेरे थे और मैं वहीं था 
खुशी हो या दुख साथ तो मैंने दिया था।

तुझे पाके मैं खुश नही होता क्योंकि मैंने कभी तुझे खोया ही नही,

तू न दिखती है तो तेरी फिक्र होती लेकिन कमी बस तेरी होती है तेरे साथ कि नहीं।





यह देखिए जीवन मे एक निश्चय कीजिये।

                             जीवन का उद्धार।

0 Comments